ZEE न्यूज़ के मालिक, सुधीर चौधरी और नवीन जिंदल के बीच हुआ समझौता, करोड़ों की रंगदारी के मामले में आया मोड़

कारोबारी सिर्फ अपना कारोबार देखता है, अगर उसे अपने कारोबार में कहीं से नुकसान नज़र आता है, तो वह उस नुकसान की भरपाई करने के लिए कुछ भी करने को तैयार रहता है। इसी तरह उसे जहां से फायदा मिलता है, वह उसे भी हर तरह से हासिल करता है। कारोबारियों का मिजाज होता है कि कारोबार को आगे बढ़ाने के लिए अगर दुशमन को भी गले लगाना पड़े तो वह दुश्मन के भी बाहों में बाहें डाल देता है।

ऐसे ही दो कारोबारियों ने एक दूसरे से हाथ मिला लिया है, हम बात कर रहे हैं, सुभाष चंद्रा (जी मीडिया ग्रुप) और नवीन जिंदल (जिंदल ग्रुप) के बारे में, एक समय ऐसा आया था कि इन दोनों ग्रुप में ऐसी दराड़ आई थी, कि इसी मामले को लेकर सुधीर चौधरी तिहाड़ जेल की हवा भी खाने चले गए थे। लेकिन अब दोनों ग्रुप एक साथ फिर चाय पीते नज़र आएंगे।

मिली जानकारी के अनुसार दोनों ग्रुप में तल्खियाँ भुला कर अब आपस में सम्झौता हो गया है। आप को बता दें कि इसी ग्रुप की वजह से सुभाष चंद्रा जेल जाते जाते बड़ी मुश्किल से बचे थे। लेकिन अब दोनों में सुलह हो गई है।

आपको बता दें कि कोयला घोटाले की खबरें न दिखाने के लिए करोड़ों रुपये रिश्वत मांगने वाले जी ग्रुप के संपादकों का नवीन जिंदल स्टिंग कर लिया था। इस स्टिंग के बाद हंगामा मच गया था। और इस मामले की शिकायत भी दिल्ली में दर्ज की गई थी, जिसके बाद ज़ी ग्रुप के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी हो गई थी। और जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी और जी बिजनेस के संपादक समीर अहलूवालिया जेल चले गए थे।

इस मामले के बाद बड़ी मुश्किल से सुभाष चंद्रा बचे थे, उनपर भी कई गंभीर आरोप लगाए गए थे, लेकिन वह जेल नहीं गए थे। अब खबर आ रही है कि दोनों ग्रुप ने आपस में हाथ मिला लिया है।