4 हजार फीट ऊंचे पहाड़ पर है ये गणेश प्रतिमा, किसने और कैसे बनाई है रहस्य….

dholkal ganpati

loading...

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में ढोलकल पहाड़ी पर मिली गणपति की विशाल प्रतिमा का यह रहस्य अब तक नहीं सुलझा है कि करीब चार हजार फीट की ऊंचाई पर उसे बनाया या स्थापित कैसे किया गया। क्षेत्र के लोग उन्हें अपना रक्षक मानकर उनकी पूजा करते हैं।

loading...

– ढोलकल पहाड़ी दंतेवाड़ा शहर से करीब 22 किलोमीटर दूर है। कुछ ही साल पहले पुरातत्व विभाग ने प्रतिमा की खोज की।
– करीब तीन फीट ऊंची और ढाई फीट चौड़ी ग्रेनाइट पत्थर से बनी यह प्रतिमा बेहद कलात्मक है।
– स्थानीय भाषा में कल का मतलब पहाड़ होता है। इसलिए ढोलकल के दो मतलब निकाले जाते हैं।
– एक तो ये कि ढोलकल पहाड़ी की वह चोटी जहां गणपति प्रतिमा है वह बिलकुल बेलनाकार ढोल की की तरह खड़ी है और दूसरा, वहां ढोल बजाने से दूर तक उसकी आवाज सुनाई देती है।
– प्रतिमा के दर्शन के लिए उस पहाड़ पर चढ़ना बहुत कठिन है। विशेष मौकों पर ही लोग वहां पूजा-पाठ के लिए जाते हैं।

Prev1 of 3Next
अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.