जीत के बाद विजेंदर सिंह ने क्यों कहा, ‘यह बेल्ट मैं चीन को देना चाहता हूं’

विजेंदर के प्रशंसकों के लिए यह दोहरी खुशी का पल था क्योंकि उन्होंने चीनी मुक्केबाज से डब्ल्यूबीओ ओरिएंटल सुपर मिडिलवेट खिताब भी जीता।

मुंबई: भारतीय बॉक्सर विजेंदर सिंह जाट ने चीनी प्रतिद्वंद्वी जुल्फिकार मैमतअली को करीबी मुकाबले में हराकर डब्ल्यूबीओ एशिया पेसीफिक सुपर मिडिलवेट खिताब जीतने के बाद भारत-चीन सीमा पर शांति की अपील की।विजेंदर के प्रशंसकों के लिए यह दोहरी खुशी का पल था क्योंकि उन्होंने चीनी मुक्केबाज से डब्ल्यूबीओ ओरिएंटल सुपर मिडिलवेट खिताब भी जीता।

ओलिंपिक में कांस्य पद जीतने वाले विजेंदर ने मुकाबले के बाद कहा, ‘मैं यह बेल्ट जुल्फिकार को वापस देना चाहता हूं। मैं सीमा पर शांति की उम्मीद करता हूं और शांति का संदेश सबसे महत्वपूर्ण है।’ भारत और चीन के बीच पिछले कुछ सप्ताह से सिक्किम में सीमा पर गतिरोध की स्थिति है। विजेंदर के पेशेवर करियर में यह लगातार नौंवी जीत थी।

विजेंदर ने मुकाबले से पहले कहा था, ‘चीनी सामान ज्यादा देर नहीं चलते’, लेकिन मुकाबला समाप्त होने के बाद अपने प्रतिद्वंद्वी से प्रभावित भारतीय मुक्केबाज ने कहा, मुझे ऐसा लगता था कि चीनी मुक्केबाज बहुत देर तक नहीं टिक पाएंगे, लेकिन जिस तरह वह खेले, उन्होंने मुझे हैरान कर दिया।’

शुरुआती दो राउंड में जुल्फिकार आक्रामक दिखे, लेकिन विजेंदर ने शानदार बचाव किया। विजेंदर ने अपनी लंबाई का अच्छा फायदा उठाया और चीनी मुक्केबाज को कुछ अच्छे पंच जड़े। अगले कुछ राउंड में भी बराबर का खेल देखने को मिला, हालांकि चीन के मुक्केबाज को विजेंदर के कुछ अच्छे पंचों का सामना करना पड़ा।

यहां से विजेंदर चीनी खिलाड़ी पर हावी होने लगे। बचाव में जुल्फिकार ने विजेंदर के कमर के नीचे कुछ पंच मारे। ऐसा करने के दौरान नौवें राउंड में रैफरी ने मैच रोक दिया था। आखिरी राउंड में जुल्फिकार ने वापसी की कोशिश की, लेकिन विजेंदर ने अपना आक्रामण जारी रखा और मुकाबला जीत ले गए।