घुसपैठ की घटनाओं में 300% की बढ़ोत्तरी, मनमोहन और मोदी में फर्क क्या?

hamla

loading...

नई दिल्ली : कश्मीर के उरी सेक्टर में सेना पर हुए हमले से देश में पाकिस्तान के प्रति गुस्सा उबल पड़ा है। बार-बार इस तरह की हो रही घटनाओं से आजिज आ चुके लोग अब कार्रवाई चाहते हैं। 17 जवानों को खो चुके देश का मूड सोशल मीडिया पर हो रही प्रतिक्रियाओं से भी सामने आ रहा है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि अगर मोदी सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया तो उसे जनता का भारी गुस्सा झेलना पड़ेगा।
सोशल मीडिया पर मोदी से सवाल
एक कठोर और निर्णायक सरकार देने के वादे से सत्ता में पहुंचे मोदी से अब लोग सवाल करने लगे हैं। सोशल मीडिया में यह सवाल लगातार उठाया जा रहा है कि एक मजबूत देश भारत पाकिस्तान की इन कायराना हरकतों को रोकने में सक्षम क्यों नहीं है। हर पायदान पर भारत से कोसों पीछे पाकिस्तान की इतनी हिम्मत कैसे हो जाती है कि वह रोज रोज आकर हमें चोट पहुंचा जाता है। मोदी ने इस घटना के आठ घंंटे बाद ट्वीट किया कि इस घटना के दोषियों को बख्‍शा नहीं जाएगा। लोग सवाल कर रहे हैं कि जो मोदी चुनाव में इतने अलर्ट रहते थे कि चंंद देर पहले किसी भी नेता के द्वारा अपने खिलाफ की गई बात को तुरन्त जवाब दे दिया करते थे, वे इस बड़ी घटना के बाद आठ घंंटे तक क्या करते रहे। मोदी के ‘दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा’ बयान पर भी लोग नाराज हैं। लोग सवाल पूंंछ रहे हैं कि आखिर वे रोज इन्ही तरह के बयानों को कब तक सुनते रहेंगे।

अगले पृष्ठ पर पढ़े > मनमोहन और मोदी में फर्क क्या?

Prev1 of 2Next
अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.