ब्लॉग: ध्रुव साहनी से जानिये 2000 के नये नोट की प्रमुख विशेषताएँ…..

Click on Next Button

2000-ka-new-note

ब्लॉग : ध्रुव साहनी (यूनाइटेड हिन्दी)
1. सबसे पहले आपको मिलेगा 3.5 mm Audio Port. अपने  पसंदीदा गाने सुने । (साथ में नमो-नमो का उचारण अनिवार्य है)
2. फिर आपको मिलेगा एक FM Radio. (मन की बात सुनने के लिए ।)
3. दाढ़ी बनाने के लिए smooth ब्लेड भी दिया गया है । (ब्लेड केवल मूंछे ही काटेगा क्योंकि ब्लेड धर्मनिरपेक्ष है ।)
4. नोट के आगे की और 200 GB की USB drive भी दी गई है ।
5. एक कैमरा भी होगा जिसे मिननी प्रोजेक्टर के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है (प्रधान मंत्री का भाषण live दिखाएगा)


मूर्खता की पराकाष्ठा है ये, ऐसी अंधी दौड़ में सब पागल हो जाते हैं कि अपने विवेक का इस्तेमाल करना ही भूल जाते है । जहां जो पढ़ा, सुना तोते की तरह दोहराना चालू कर दिया । होश में निर्णय लिया करो मित्रो । जो बात सही है उसका समर्थन करो और गलत बात का बराबर विरोध भी करो ।

भारत सरकार ने कुछ वर्ष पहले एक सर्वे करावा था । कि पता करो कि देश में सही में ग़रीबो की संख्या कितनी हैं ? ? ? क्यों कि पहले कोई कहता था कि 25 करोड़ हैं , कोई कहता था कि 35 करोड़ हैं , कोई कहता था कि 37 करोड़ हैं आदि-आदि…..

तो सर्वे कराया | सर्वे के लिये अर्जुन सेनगुप्ता को कहा गया । अर्जुन सेनगुप्ता भारत के बहुत बड़े अर्थशास्त्री हैं । और इंदिरा गांधी के समय से भारत सरकार के आर्थिक सलाहकार रहे हैं । प्रोफेसर भी है ।

तो उन्होने 3, 4 साल कि मेहनत के बाद संसद मे एक रिपोर्ट प्रस्तुत की । रिपोर्ट कहती है देश कि कुल आबादी 115 कारोड़ । और एक 115 कारोड़ मे से 84 करोड़ 30 लाख लोग ऐसे है । जो एक दिन 20 रुपये भी खर्च नहीं कर पाते ।

84 कारोड़ 30 लाख में से 50 कारोड़ लोग ऐसे हैं । जो एक दिन में 10 रुपये भी खर्च नहीं कर पाते । और 15 कारोड़ ऐसे है 5 रुपये भी रोज के नहीं खर्च कर पाते । और 5 कारोड़ ऐसे है 50 paise भी रोज के नहीं खर्च कर पाते ।

ये हमारे देश भारत की नंगी वास्विकता है कठोर सच्चाई है !  (Google पर अर्जुन सेन गुप्ता रिपोर्ट सर्च कर देख लो सबूत )

अब आप खुद विचार करें जिस देश में 84 करोड़ 30 लाख लोग मात्र रोज के 20 रूपये पर जिंदा हो उस देश को 2000 के नोट की क्या जरूरत है ??

आपको जानकार आश्चर्य होगा अमेरिका और इंग्लैंड में currency Denominations में 100 से ऊपर का नोट नहीं है । वो लोग जानते है जितना बड़ा नोट होगा ,उतनी रिश्वत आसानी से दी जाती है , 10, 20, 50 के नोट हों और 10 करोड़ की रिश्वत देनी पड़े तो ट्रक भरकर ले जाना पड़ेगा । अब पूरा ट्रक नोटो का संभालकर कहाँ रखेगा वहीं 2000 के नोट हों छोटी अटैची में आ जाएंगे ।

तो अंत मित्रो यही कहना चाहता हूँ सरकार ने एक बार जो बड़े नोट वापिस लेने का निर्णय लिया है 100 % ठीक है।

  1. ये बिलकुल सत्य है कि एक बार सारे नकली नोट खत्म हो जाएंगे ।
  2. देश में छिपा कालाधन एक बार पूरा पकड़ मे आएगा या नष्ट हो जाएगा ।
  3. क्योंकि बैंको में बहुत अधिक पैसा इक्कठा हो जाएगा तो बहुत संभावना है कर्ज सस्ता मिले । जिससे विकास होगा ।
  4. इस बजट में राजकोषीय घाटा भी कम होने की पूरी आशा है ।
  5. पाकिस्तान की और से आतंकियों की आर्थिक मदद में भी कमी आएगी ।

मित्रों ऊपर की सब बातें ठीक है और मैं उनका समर्थन भी करता हूँ । लेकिन दुबारा से 500-2000 नोट बनाना कालेधन को एक बार फिर से बढ़ावा देने वाला कदम होगा । कल को 500-2000 के भी नकली नोट दुबारा आ जाएंगे ।

कुछ समय पहले पाकिस्तान का एक आंतकवादी पकड़ा गया था उससे पूछा गया था , कि वो 10,20,50 के नकली नोट क्यों नहीं बनाते ?? तो उसने कहा था 50 का नोट बनाने पर 55 रु का खर्चा आता है । 20 का नोट बनाने पर 25 रु का । इसीलिए बड़े नोट ही बनाते है ,और बार्डर से पर करवाने में आसानी होती है! और अंत आपको बता दूँ अरुण जेटली ने साफ कर दिया है कि चिप लगने वाली बात अफवाह है । इसलिए मित्रो 500,2000 के नोट दुबारा बनाना है गलत निर्णय साबित होगा ।

ध्रुव !

(लेख के विचार पूर्णत: निजी हैं , एवं यूनाइटेड हिन्दी डॉट कॉम इसमें उल्‍लेखित बातों का न तो समर्थन करता है और न ही इसके पक्ष या विपक्ष में अपनी सहमति जाहिर करता है। इस लेख को लेकर अथवा इससे असहमति के विचारों का भी यूनाइटेड हिन्दी डॉट कॉम स्‍वागत करता है। इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है। आप लेख पर अपनी प्रतिक्रिया  unitedhindiweb@gmail.com पर भेज सकते हैं। ब्‍लॉग पोस्‍ट के साथ अपना संक्षिप्‍त परिचय और फोटो भी भेजें। अगर आप भी भारत के लिए ब्‍लॉग लिखने के इच्छुक लेखक है तो भी आपका यूनाइटेड हिन्दी पर स्वागत है।)

Click on Next Button

To Share it All 🇺🇸🇮🇹🇩🇪NRI Citizens

Leave a Reply

Your email address will not be published.