ओवैसी बोले- जेल में आतंकियों को जींस पहनाया जाता? सरकार के पास ‘व्यापमं’ फॉर्मूला था!

भोपाल (यूनाइटेड हिन्दी) :- मध्यप्रदेस राज्य की भोपाल सेंट्रल जेल से फरार प्रतिबंधित मुस्लिम आतंकी संगठन “सिमी” के आठ आतंकियों के एनकाउंटर पर सवाल खड़े होने लगे हैं। भोपाल सेंट्रल जेल से भागने और फिर एनकाउंटर के मामले पर मीम असदुद्दीन ओवैसी और कांग्रेस पार्टी ने सवाल खड़े किए हैं। असदुद्दीन ओवैसी ने एनकाउंटर को लेकर कहा, ”आखिर कैदी जेल से भागे कैसे? उनकी जो फोटोज आई हैं, उनमें वे जूता-जींस पेंट पहने हुए दिख रहे हैं। क्या जेल में अंडरट्रायल कैदी को ऐसे रखा जाता है? इसकी जांच होनी चाहिए।”

anconter

वहीं आतंकवादियों के हमदर्द पार्टी आप नेता अल्का लांबा ने कहा- ”आतंकी मारे गए, अच्छा हुआ। 8 आतंकियों का एक साथ भागना। फिर कुछ घंटों बाद एक ही साथ एनकाउंटर में मारा जाना। सरकार के पास ‘व्यापमं’ फार्मूला भी था।”

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा- सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो जांच…
हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, एसटीएफ-पुलिस चाहती तो जेल से भागने वालों को पकड़ सकती थी। उन पर मुकदमा हो सकता था। प्रतिबंधित मुस्लिम आतंकी संगठन ”सिमी के आतंकियों का जेल से 10 किमी दूर एनकाउंटर कर दिया गया। प्रतिबंधित मुस्लिम आतंकी संगठन वे सभी आतंकवादी ज्यूडिशियल कस्टडी में थे। यानी वे अंडरट्रायल थे। ये देखने वाली बात है कि वे घड़ी, जूते और बेल्ट पहने हुए थे। अगर उन्हें मारा गया है तो इसका आधार क्या है? कई सवाल खड़े होते हैं। एनकाउंटर के पीछे कोई मजबूत आधार नजर नहीं आता। मध्य प्रदेश का मालवा आतंकियों का गढ़ माना जाता है। एसटीएफ के पास काफी पावर हैं। वे अरेस्ट कर सकते थे और उसके बाद पूछताछ की जा सकती थी। हम चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में पूरे मामले की जांच की जाए। आपको बता दें कि मुस्लिम आतंकी संगठन सिमी को 2011 में केंद्र सरकार ने प्रतिबंधित किया था।

आप नेताओं ने और क्या कहा?
@LambaAlka ने ट्वीट किया, ‘भागे/भगाया, एनकाउंटर हुआ, सभी मारे गए, अच्छा हुआ, रख-खिलाकर मोटा करने से बेहतर होगा 6 महीनों में सुनवाई खत्म कर इन्हें फांसी पर लटका दिया जाए।’

आतंकी जेल से भागे। एक कॉन्स्टेबल शहीद हुआ। पकड़े गए, मारे गए। इन सबमें नाकामी किसकी? कॉन्स्टेबल की मौत का जिम्मेदार कौन? सजा तो उन्हें भी बनती है।

एक और आपीया नेता @Aap_Praveen ने ट्वीट किया की एनकाउंटर करने पर mppolice एवं @ChouhanShivraj को बधाई, पर कब तक यूं ही भागते रहेंगे आतंकवादी, अंदर ही बड़ी साजिश लगती है।”

कांग्रेस ने क्या कहा?
कांग्रेस के सीनियर लीडर कमलनाथ ने मामले की ज्यूडिशियल जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि आतंकी जेल से कैसे फरार हुए, इसका पता लगाया जाना चाहिए।

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व आंकवादियों के सबसे पुराने हमदर्द दिग्विजय सिंह ने कहा है की हो सकता है कि किसी योजना के तहत मुसलमानो की रक्षक संगठन सिमी के आतंकियों को भगाया गया हो?

अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.