मस्जिद के इमाम जो बन गये एक वैदिक, वर्षों से कर रहा है हिन्दू धर्म का प्रचार

maxresdefault

हिन्दू धर्म दुनिया का सबसे पुराना धर्म है। यहां लगभग सभी धर्मों के लोग रहते हैं। लेकिन लेकिन हिन्दू धर्म का इतना प्रभाव कही भी देखने को नहीं मिलेगा, जितना प्रभाव इस इमाम पर पड़ा है। जो इन्सान बचपन से कुरान पढ़ा हो और मस्जिद में इमाम रह चुका हो इतना इस्लामिक होने के बाद हिन्दू धर्म का इतना बड़ा प्रचारक बन गया कि वो आज चारों वेद ज्ञान के अलावा और कोई बात ही नहीं करता। आइये जानते है कौन है यह इमाम जो वेदिक बन गया।

इस इमाम का नाम महबूब अली है, जो पहले एक कट्टर मुसलमान था। इनका जन्म कोलकता के एक मुस्लिम परिवार में हुआ था। इन्होने अपनी शिक्षा में बचपन से ही कुरान और इस्लाम धर्म की शिक्षा ली थी। महबूब अली मेरठ की मस्जिद में इमाम रह चुके है और कई सालो तक इमाम रहकर मस्जिद में जिंदगी गुजारी है। इन्होने हिन्दू धर्म की खासियत जानकार वेद की चारों किताब पढ़ी उसके बाद इस्लाम धर्म की कुरान को चुनौती देने लगे। यह जब इमाम थे, तब कुरान की तारीफ़ करते नहीं थकते थे। आज हिन्दू धर्म के रंग में ऐसे रंग है कि हर किसी को इस रंग में रंगना चाहते हैं। महबूब अली ने अपना नाम बदल कर महेंद्र पाल रख लिया। इनका वर्तमान में परिवर्तित नाम पंडित महेंद्र पाल आर्य है।

अगले पृष्ठ पर पढे