दुनिया को थर्राने वाले दुर्दांत मुस्लिम आतंकी लादेन की सल्तनत अब उसके बेटे ने संभाल ली है और….

आतंकी घोषित करने के बाद अब अमेरिका हर उस संपत्ति पर रोक लगा देगा, जिससे हमजा का कोई हित जुड़ा है। अमेरिकी नागरिक अब हमजा या उसके संगठन के साथ किसी तरह का लेन-देन नहीं कर पाएंगे। इसके अलावा अमेरिका ये भी कोशिश करेगा कि हमजा का सहयोग करने वाले दूसरे देशों पर भी शिकंजा कसा जाए। तो क्या अमेरिका पाकिस्तान पर भी शिकंजा कसेगा? ये एक ऐसा सवाल है जिस पर अभी पूरी दुनिया की नजरें टिकी हैं।

हमजा की उम्र 20-22 साल है, लेकिन वो जहर उगल रहा है, बोलने में बहुत तेज है, हेट स्पीच में माहिर है। माना जाता है कि 2 मई 2011 को हमजा बिन लादेन ईरान के किसी गुप्त ठिकाने पर रहकर आतंकी की ट्रेनिंग ले रहा था। लादेन अपने इस सबसे चहेते बेटे को अपने साथ नहीं रखना चाहता था। ओसामा को भरोसा था कि अगर उसे कुछ हो गया तो उसका बेटा हमजा ही आतंक की सल्तनत का वारिस बनेगा और हमजा बिल्कुल अपने बाप के नक्शे कदम पर चल रहा है।

2011 में ओसामा की मौत के बाद हमजा अल कायदा का सक्रिय प्रचारक बन गया था। 2015 में आतंकी अल जवाहिरी ने उसे अल कायदा का सदस्य घोषित किया था। इसके बाद 2015 में ही हमजा ने अमेरिका, फ्रांस और इजरायल में हमला करने की धमकी दी। उसने इन देशों में लोन वुल्फ के जरिए हमला करने की धमकी दी। 9 जुलाई 2016 को हमजा ने एक ऑडियो टेप जारी किया। जिसमें अमेरिका से बदला लेने की धमकी दी गई थी।

अपने ऑडियो टेप में हमजा बिन लादेन ने अमेरिका और उसके सहयोगी देशों के खिलाफ लड़ाई जारी रखने का वादा किया था। करीब 21 मिनट के इस ऑडियो टेप को ‘वी आर ऑल ओसामा’ नाम से रिलीज किया गया था। यही वजह है कि अमेरिका अब लादेन के इस रक्तबीज को पनपने से पहले ही कुचल देना चाहता है और इस कड़ी में फिलहाल अमेरिका ने पहला कदम ही बढ़ाया है।

 

loading...
Prev2 of 2Next
अगले पृष्ठ पर जाएँ