प्रधानमंत्री मोदी की माँ ने ख़ुद बैंक की लाइन में रहकर बदलवाए 4500 रुपए

गांधीनगर ANI – इसे कहते हैं जस माँ तस बेटा या जस बेटा तस माँ। प्रधानमंत्री बेटे के इस फैसले को उनकी माँ हीराबेन भी सपोर्ट करेंगी, शायद ही किसी ने सोचा होगा। पूरा देश इस वक्त नोटबंदी की मार झेल रहा है। आम लोग परेशान हैं लेकिन मजबूर हैं क्यूंकि पैसा बहुत ज़रूरी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की माता जी, हीराबा गांधीनगर की ओरिएंटल बैंक की ब्रांच में करंसी बदलवाने के लिए पहुंची। अपने पाँच-पाँच सौ रुपए के पुराने नोट बदलवाए हैं। आज ज़माने में भले ही यह किसी कहानी का क़िस्सा लगे। लेकिन यह सच है। उन्हें अपने नोट बदलवाने के लिए शिनाख़्त का फॉर्म भी भरना पड़ा क्यों कि बैंक में उनका अपना कोई खाता नहीं है। उनके छोटे बेटे, प्रधानमंत्री के छोटे भाई पंकज का खाता है, जो बैंक में उनके साथ थे। प्रधानमंत्री की माता जी के इस क़दम को उन करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणादायक माना जा रहा है जिन्हें अपने नोट बदलवाने के लिए घंटों बैंकों और ATM मशीनों के सामने कतारों में खड़ा होना पड़ रहा है।

loading...

उन्होंने 4500 के पुराने नोटों को बदलकर नए नोट लिए। उन्हें देखने के बाद लाइन में खड़े लोग हैरान रह गए और उन्हें नोट बदलने का पहले अवसर दिया। उनके पास 4500 की रकम होने की खबर मिली है। इस उम्र में भी बेटे के इस निर्णय में उनके साथ कड़ी रहने वाली माँ को देखकर लोग मन ही मन हीराबेन की तारीफ कर रहे थे।

 

अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.