मोबिन अहमद पुत्र गुलाम रसूल ने आतंकवादियों को सबक सिखाने के लिए हिन्दू धर्म स्वीकार किया….

श्री हिन्दू तख़्त के राष्ट्रीय प्रचारक वीरेश शांडिल्य की मौजूदगी में बिना दवाब के स्वेच्छा से हिन्दू धर्म स्वीकार कर लिया।

अम्बाला : अम्बाला छावनी के निवासी मोबिन अहमद पुत्र गुलाम रसूल ने पाकिस्तानी मानसिकता के आतंकवादियों को सबक सिखाने के लिए 9 जनवरी 2017 को स्वेच्छा से विधिवत व हिन्दू रीति-रिवाजों से हिन्दू धर्म स्वीकार किया है। इस अवसर पर उनका श्री हिन्दू तख़्त के धर्माधीश जगतगुरु महामंडलेश्वर पंचानंद गिरी जी महाराज व राष्ट्रीय प्रचारक वीरेश शांडिल्य ने श्री हिन्दू तख़्त की ओर से स्वागत किया। 9 जनवरी 2017 को एक निजी होटल में स्वेच्छा से हिन्दू धर्म अपनाने वाले मोबिन अहमद ने कहा की वह अपने परिवार व तीन बेटो व एक बेटी की सहमति से हिन्दू धर्म स्वीकार कर रहे है और बिना किसी दवाब के उन्होंने श्री हिन्दू तख़्त के राष्ट्रीय प्रचारक वीरेश शांडिल्य की मौजूदगी में हिन्दू धर्म स्वीकार कर लिया है। उन्होंने कहा की गलती पाकिस्तानी आतंकी मुसलमान करते है और भुगतना हिन्दूस्तान के मुसलमानों को पड़ता है उन्होंने कहा की उनके पूर्वज हिन्दू ही थे और पाकिस्तान भी हिन्दुस्तान से बना है और पाकिस्तानी आतंकवादियों को ललकारते हुए और उनके खिलाफ हिन्दू धर्म अपनाकर पूरे विश्व में एक सन्देश दिया ।

मोबिन अहमद ने कहा की “आज उन्हें हिन्दू धर्म अपनाकर ख़ुशी हो रही है” और वैसे तो उन्होंने कहा न गीता, कुरान, गुरु ग्रंथ साहिब और न ही बाइबल में लिखा है की निर्दोष लोगों की हत्या करो निर्दोषों को खून बहाओं ! मोबिन अहमद ने कहा उन्हें देखकर मुस्लिम समाज के और लोग हिन्दू धर्म अपनाएंगे और पाक को मुहँतोड़ जवाब देंगे ।

अगले पृष्ठ पर पूरी जानकारी है 

Prev1 of 2Next
अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...