हजरत हुसैन, मारिका-ए-कर्बला और उलेमाओं की आधी-अधूरी तकरीरें

Prev1 of 2Next
Click on Next Button

यूनाइटेड हिन्दी ( ब्लॉग – Abhijeet Singh ) – अभी कुछ रोज़ पूर्व मुहर्रम का त्यौहार गुजरा।  मुहर्रम एक महीना है, जिसमें मुस्लिम दस दिन तक इमाम हुसैन की याद में शोक मनाते हैं। बहाबियों और कुछ दूसरे फिरके वालों को छोड़कर लगभग सारा मुस्लिम विश्व कर्बला के मैदान में हुई हजरत हुसैन की शहादत को याद कर मातम मनाता हैं, इस अवसर पर ताजिये निकाले जातें हैं और धर्मगुरु उस ग़मगीन वाक़िये को मज्लिसों में सुनाते हैं जिसमें हजरत हुसैन से जुड़ा हर प्रसंग बड़े मार्मिक रूप में सुनाया जाता है। कर्बला के मारिके का ये वर्णन इतना सजीव होता है कि श्रोताओं में से सिसकियों की आवाजें सुनाई देने लगती है।

karbala-ka-sach

 

हजरत हुसैन की शहादत के किस्सों के ऐसे महफ़िलों में मैं भी कई बार गया हूँ और इन्टरनेट पर भी शिया और सुन्नी उलेमाओं को सुनता रहता हूँ। मगर बड़े अफ़सोस के साथ कहना पड़ता है कि इन तकरीरों में हजरत हुसैन की शहादत से जुड़े कई किस्से मौलाना लोग नहीं सुनाते, छुपा लेते हैं। किसलिये नहीं सुनाते इसकी वजह बताना जरूरी नहीं है क्योंकि वो सबको पता है।

कर्बला में जब हजरत हुसैन और उनके खेमे के लोगों के लिये यजीद के सिपहसालारों ने पानी बंद कर दिया था तब अपने बच्चों और संबंधियों के भूख-प्यास को देखते हुए तीन दिन और तीन रात से प्यासे हजरत हुसैन ने अपने खुश्क गले से यजीद के सिपहसालार इब्ने-साद से कहा था कि यजीद से कह दो कि मैं उसकी सरहदों से दूर हिन्दुस्तान जाना चाहता हूँ। गौर करने वाली बात ये है कि उस समय एशिया और अफ्रीका के कई मुल्क इस्लाम के अधीन हो चुके थे पर इस्लाम उस वक़्त तक हिन्दुस्तान में नहीं पहुंचा था। यहाँ तब सब हिन्दू ही थे फिर भी हजरत हुसैन को इस बात का पूरा यकीन था कि भारत में वहां के हिन्दुओं के बीच उन्हें इज्जत और सम्मान मिलेगा जो किसी मुस्लिम मुल्क में नसीब नहीं है। शायद हजरत हुसैन को हिन्दुस्तान के हवाओं में मुहब्बत की वो खुशबू महसूस हो गई थी जिसके बारे में उनके नाना फरमाया करते थे कि हिन्द से मुझे वलियों की खुशबू आती है। इतिहासकारों की मान्यता तो ये भी है कि हजरत हुसैन की तरफ से भारत से कुछ लोग लड़ने भी गये थे जो आज हुसैनी ब्राह्मण कहलाते हैं।

Click on Next Button For Next Slide

Prev1 of 2Next
Click on Next Button

To Share it All 🇺🇸🇮🇹🇩🇪NRI Citizens

Leave a Reply

Your email address will not be published.