हस्तमैथुन की आदत पड़ी हुई है तो उसे छोड़ने के 25 सबसे आसान उपाय जरूर पढ़े व Share करे!

Prev1 of 6Next
Click on Next Button

hastmaith

Surendra Singh Mahara नयीचेतना.कॉम के संस्थापक, लेखक और संपादक है. इनका मूल निवास अल्मोड़ा, नैनीताल उत्तराखण्ड (Almora, Nainital Uttarakhand) में है। वे अपने Blog के माध्यम से अपने विचारो को लोगो तक पहुंचाते है और उनका मकसद लोगो के जीवन में एक सकारात्मक बदलाव लाना है।

हेल्थ डिस्क :- अगर किसी किशोर को हस्तमैथुन की आदत पड़ी हुई हो तो उसे छोड़ने के लिए उसे अपने मन पर काबू रखना चाहिए, ज्यादा समय तक अकेले में नहीं होना चाहिए, अश्लील पुस्तकें नहीं पड़नी चाहिए, खेल-कूद में ज्यादा समय बिताना चाहिए। भोजन में हरी सब्जियों, दालों आदि का सेवन करना चाहिए। कुछ किशोरों के मन में यह वहम भी होता है कि अगर वे अपनी हस्तमैथुन करने की आदत छोड़ देते हैं तो उसे स्वप्नदोष होना शुरु हो सकता है।

बहुत से चिकित्सक स्वप्नदोष को भी रोग बताकर किशोरों को डरा देते हैं जबकि स्वप्नदोष अपने आप में कोई रोग नहीं है बल्कि यह शरीर की एक स्वाभाविक और प्राकृतिक क्रिया है क्योंकि वीर्य जब शुक्राशय में ज्यादा जमा हो जाता है तो स्वप्नदोष के जरिए यह बाहर निकल जाता है।

इसकी कोई संख्या निश्चित नहीं होती है। यह सब व्यक्ति के खान-पान, रहन-सहन और स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। जो किशोर कब्ज रोग से पीडि़त होते हैं उन्हें स्वप्नदोष ज्यादा होता है। ऐसा उन लोगों के साथ भी होता है जो कामोत्तेजक माहौल में रहते हैं या संभोग के बारे में सोचते हैं। ऐसे किशोरों को स्वप्नदोष होना शादी के बाद अपने आप बंद हो जाता है।

अगर हम लोग स्वप्नदोष के वास्तविक कारणों को जान लेते हैं तो स्वप्नदोष के रोग में कमी आ सकती है। जिस समय मनुष्य सोता है उस अवस्था में उसे कई प्रकार के सपने आते हैं जिसका केंद्र बिंदु उसके अपने संस्कार और विचार होते हैं। जो मनुष्य पूरे दिन जिस माहौल में रहता है वैसे ही सपने उसे रात में सोते समय भी आते हैं जैसे गंदी फिल्म देखना, गंदी किताब पढ़ना, गंदी- गंदी बाते करना आदि।

यदि कोई किशोर स्वप्नदोष रोग से बचना चाहता है तो उसे अपने मन में बुरे विचारों को आने ही नहीं देना चाहिए।

आगे पढ़े > हस्तमैथुन की लत को रोकने के 25 प्रमुख उपाय 

Prev1 of 6Next
Click on Next Button

To Share it All 🇺🇸🇮🇹🇩🇪NRI Citizens