खतना होने के डर से घर नहीं जा रही लड़कियां, जबरन ग़ैरक़ानूनी खतना कराना चाहते हैं।

_930691

कीनिया की सैकड़ों लड़कियां क्रिसमस की तैयारी घर पर नहीं, बल्कि स्कूलों में रहकर कर रही हैं। इन्हें डर है कि इनके माता-पिता कहीं जबरन इनका खतना न करा दें!

छुट्टियों के कारण स्कूलों को एक महीना पहले बंद हो जाना चाहिए था, लेकिन इन लड़कियों के लिए स्कूल अब भी खुले हुए हैं। इसके साथ ही अन्य लड़कियां चर्चों में रह रही हैं।

14 साल की एलिस ने बीबीसी नाम के मीडिया को बताया कि आर्थिक और सांस्कृतिक वजहों से ज़्यादातर माता-पिता इस परंपरा (खतना किए जाने के) के समर्थक हैं।

एलिस का कहना है, ”मेरे माता-पिता दहेज की वजह से जबरन खतना कराना चाहते हैं। जब लड़कियों का खतना किया जाता है, तो यह माना जाता है कि अब उनकी शादी कर दी जाएगी। क्योंकि खतना होने के बाद माता-पिता अपनी बेटियों को पेश कर देते हैं। फिर उनके परिवार वालों को दहेज में गाय मिलती हैं।”

अंतिम पृष्ठ पर देखिये खतना कैसे किया जाता है

Prev1 of 3Next
अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...