आयुर्वेद में बताया गया है सहजन (सीनण) से 300 रोगों का चमत्कारिक उपचार….

Prev1 of 5Next
Click on Next Button

10269436_738750442836204_3952633158604715072_n_0

कृपया ध्यान दे : यह बहुमूल्य जानकारी समाजहित में पहुचाने में हमारी मदद करे आपके मात्र एक Share करने से किसी जरूरतमंद के लिए वरदान हो सकता है। इसलिए शेयर करना ना भूले।

भारत में एक से बढ़कर एक सेहत का खजाना मौजूद है। चाहे वो सब्जी के रूप में हो, चाहे फलों के रूप में और चाहे आयुर्वेदिक औषधियों के रूप में। सहजन (Drumstick) एक ऐसी की रोगनाशक शक्ति है जिसे सब्जी के रूप में भारत के विभिन्न राज्यों में उपयोग किया जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार सहजन 300 से भी अधिक रोगों को दूर भगाने वाली प्राकृतिक औषधि है जिसे हफ्ते में 1-2 दिन खाते रहने से कई बीमारियाँ दूर हो जाती है।

सहजन या मुनगा जड़ से लेकर फूल-पत्तियों तक सेहत का खजाना है। इसके ताजे फूल से हर्बल टॉनिक बनाया जाता है और इसकी पट्टी में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। सहजन का वनस्पति नाम मोरिंगा ओलिफेरा है। फिलीपीन्स, मैक्सिको, श्रीलंका, मलेशिया आदि देशों में सहजन का उपयोग बहुत अधिक किया जाता है।

भारत में खासकर दक्षिण भारत में इसका उपयोग विभिन्न ब्यंजनो में खूब किया जाता है। इसका तेल भी निकाला जाता है और इसकी छाल पत्ती गोंद, जड़ आदि से आयुर्वेदिक दवाएं तैयार की जाती हैं। आयुर्वेद में 300 रोगों का सहजन से उपचार बताया गया है। इसलिए इसके खाने से लाभों के बारे में बताया जा रहा है –

Prev1 of 5Next
Click on Next Button

Share it to All 🇺🇸🇮🇹🇩🇪 NRI Citizens