यहाँ न किसान आत्महत्या करता है न बच्चे बिना ऑक्सीजन के मरते हैं : मणिक सरकार

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने भाजपा और उसकी दक्षिणपंथी सरकार को चुनौती देते हुए कहा है कि जैसा सुशासन वामपंथ की सरकारों ने लाया है वैसा लाकर दिखाएँ।

तमाम आंकड़े रखते हुए सीएम माणिक सरकार कहते हैं त्रिपुरा में 95% स्कूल सरकारी है और 97 प्रतिशत लोग पढ़े-लिखे, 98 % लोग सरकारी अस्पतालों में मुफ्त इलाज करा रहे हैं और आज तक एक भी किसान ने आत्महत्या नहीं की है।

भले ही केंद्र सरकार ने फ़र्टिलाइज़र /खाद पर सब्सिडी खत्म कर दिया हो, लेकिन त्रिपुरा सरकार अपने किसानों को अब भी सब्सिडी देती है ।

loading...

नहर ,सिंचाई जैसी व्यवस्थाएं मुफ्त हैं । वामपंथी की सरकार आने के पहले मात्र 5 % कृषि भूमि पर सिंचाई होती थी अब 97 % भूमि पर सिंचाई होती है ।

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री द्वारा बोली गई बातों की सच्चाई का दावा करते हुए सीपीआई-एम की छात्र शाखा एआईएसएफ द्वारा सोशल मीडिया पर ये बातें लिखी जा रही हैं ।

हरियाणा के हिसार में AIKS के राष्ट्रीय महाधिवेशन में त्रिपुरा के वामपंथी CM मानिक बोले
त्रिपुरा मे 95% स्कूल सरकारी है । सब के लिए शिक्षा फ्री है । 97% नागरिक पढे लिखे है । 98 % लोग सरकारी अस्पताल मे इलाज करवाते है जो बिल्कुल मुफ्त है । एक भी किसान ने आत्महत्या नही की है । केन्द्र सरकार द्वारा फर्टिलाइजर सब्बसीडी खत्म करने व कम करने के बाद भी त्रिपुरा सरकार किसानो को पूरी सब्बसीडी दे रही है । नहरी पानी व बिजली व सिंचाई व्यसस्था किसानो के लिए बिल्कुल मुफ्त है। त्रिपुरा मे वामपंथ की सरकार बनने से पहले वहां केवल 5% कृषि भूमि पर सिंचाई होती थी और अब 97% कृषि भूमि पर सिंचाई होती है …

दरअसल हरियाणा में 4 दिवसीय राष्ट्रीय महाधिवेशन चल रहा है जिसमें भारतीय किसान सभा पूरी कोशिश कर रही है कि किसानों और मजदूरों को एकजुट करते हुए वह मोदी सरकार को चुनौती पेश करे।

अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...