प्रदूषण पर ब्लॉग : अमेरिकन संस्थाएं बताती हैं भारत के ये नीतिकार उसे ही सच मान बैठते हैं!

delhi

ब्लॉग : रवि ओझा (यूनाइटेड हिन्दी) – #Delhi_Smog

#Pollution_in_Delhi #Idiot_Governments दिल्ली के जहरीले प्रदूषण के लिए सरकार और पर्यावरण विशेषज्ञ दिवाली पर जलाए गये पटाखों और किसानों द्वारा पंजाब/हरियाणा में जलाई गयी पराली को जिम्मेदार बता रहे हैं। ऐसा इसलिए भी है कि, अमेरिकन स्पेस एजेंसी NASA ने अपनी रिसर्च द्वारा बताया है कि, दिल्ली में ताजा प्रदूषण के लिए किसानों द्वारा जलाई गयी पराली जिम्मेदार है।

पश्चिम के मानसिक गुलाम मूर्ख भारतीय पर्यावरण विशेषज्ञों को अमेरिका को आँख मूंदकर फॉलो करने की आदत है इसलिए जो भी अमेरिकन संस्थाएं बताती हैं भारत के ये नीतिकार उसे ही सच मान बैठते हैं। ना ही खुद से कोई रिसर्च की जाती है और ना ही असली कारणों का पता लगाया जाता है।

loading...

दिल्ली के ताजा प्रदूषण के लिए दिवाली के पटाखे या किसानों द्वारा जलाई गयी पराली नहीं बल्कि पश्चिम की तर्ज पर पिछले 60-65 वर्षों से चल रहा घटिया विकास कार्यक्रम है। विकास की अंधी दौड़ और बिना किसी दूरगामी प्लान के चल रहे Industrialization ने भारत के पर्यावरण का कचरा कर दिया है।

(जल) नदियों को गंदा करके नाला तो बना ही दिया, (थल) जमीन को भी जहरीले खाद डालकर नष्ट किया जा रहा है, (नभ) अब बारी हवा का नाश करने की है। इस समस्या का इलाज ना हो पाए इसलिए मूर्ख पर्यावरण विशेषज्ञ अमेरिकी दानवों के मकडजाल में जानबूझकर खुद को उलझा लेते हैं और फर्जी कारण सामने रखकर बैठ जाते हैं।

दिल्ली अभी जो जहरीला प्रदूषण झेल रही है, ब्रिटिश और अमेरिकी शहर उसे आज से 60-65 वर्ष पहले झेल चुके हैं। अब भी झेल रहे हैं। जिसमें हजारों लोग मारे जा चुके हैं और लगातार मारे जा रहे हैं व बीमार पड़ रहे हैं।

Prev1 of 3Next
अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...