अब किस मुंह से राजनीती में रहेगी कांग्रेस पार्टी ! देखिये कैसे बेनकाब हो गया सब कुछ !

बीजेपी ने कहा कि जाकिर नाइक के एनजीओ ने जिस राजीव गांधी फाउंडेशन को डोनेशन दिया, सोनिया उसकी चेयरपर्सन थीं। मनमोहन सिंह भी उससे जुड़े थे। (फाइल)
बीजेपी ने कहा कि जाकिर नाइक के एनजीओ ने जिस राजीव गांधी फाउंडेशन को डोनेशन दिया, सोनिया उसकी चेयरपर्सन थीं। मनमोहन सिंह भी उससे जुड़े थे। (फाइल)

नई दिल्ली:- मुस्लिम धर्मगुरु व वरिष्ठ आतंकवादी प्रोफेसर जाकिर नाइक के एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF) पर राजीव गांधी फाउंडेशन को 50 लाख डोनेशन देने का आरोप लगा है। बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस से कहा, “कांग्रेस ने डोनेशन से पहले इनकार किया था। IRF ने अब खुलासा किया कि पैसे राजीव गांधी फाउंडेशन को दिए गए। सोनिया फाउंडेशन की चेयरपर्सन थीं, मनमोहन सिंह भी उससे जुड़े थे। क्या ये रिश्वत थी?” प्रसाद ने ये भी कहा कि मैंने कांग्रेस से सीधे सवाल पूछे हैं। मुझे उम्मीद है कि मुझे टेढ़े जवाब नहीं मिलेंगे।

BJP के 5 सवाल…
1# क्या डोनेशन लेने में सर्तकता बरती?
”क्या राजीव गांधी फाउंडेशन ने डोनेशन रिसीव करने में ट्रांसपेरेंसी और सतर्कता बरती?”

loading...

2# क्या विदेश से पैसा ले सकता है राजीव गांधी फाउंडेशन?
”क्या फाउंडेशन फॉरेन कॉन्ट्रिब्यूशन रेग्युलेशन एक्ट 1976 के तहत रजिस्टर्ड है? अगर ऐसा है तो क्या उसे इस बात का अधिकार है कि वह विदेश से पैसा लेने वाले एनजीओ से भी पैसा ले सकता है?”

3# अवैध चैनलों की लिस्ट में था पीस टीवी तो पैसे क्यों नहीं लौटाए?
– ”लोकसभा में 4 दिसंबर 2012 को उस समय के सूचना प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने एक जवाब में कहा था कि सिक्युरिटी एजेंसियों ने 24 अवैध विदेशी चैनलों की पहचान की है। इनमें से कुछ चैनलों का कंटेंट सिक्युरिटी के लिहाज से ठीक नहीं है। इन 24 चैनलों में पीस टीवी नंबर-2 पर था।”

– ”पीस टीवी को जाकिर नाइक ही मैनेज करते हैं। अगर उनकी सरकार के मंत्री 2012 में संसद में यह बात कहते हैं तो जाकिर नाइक के एनजीओ को 2012 में ही 50 लाख क्यों नहीं लौटाए गए?”

4# क्या होम मिनिस्ट्री से मंजूरी लेते थे जाकिर नाइक?
”जाकिर नाइक के इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को विदेश से पैसा मिलता है तो वे उसे खैरात में बांट नहीं सकते। 50 लाख की बड़ी राशि किसी को देते हैं तो उनके लिए होम मिनिस्ट्री से पहले मंजूरी लेना जरूरी है। क्या उस वक्त सरकार से यह मंजूरी ली गई थी?”

आगे की स्लाइड (Next) में पोस्ट बाकी है… 

Prev1 of 2Next
अगले पृष्ठ पर जाएँ

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.