बीड़ी नहीं दी तो दे दिया तलाक, घर से भी निकाला, तो क्या अब इस औरत का होगा हलाला !!

Prev1 of 2Next
Click on Next Button

 

पलवल – एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को सिर्फ इसलिए तलाक दे दिया क्योंकि उसे घर आने पर बीड़ी नहीं मिली थी। उस व्यक्ति ने तीन बार तलाक कहकर पत्नी को घर से निकाल दिया। इतना ही नहीं उससे जमकर मारपीट भी की।

यह भी पढ़े : जानिए इस्लाम में हलाल से हलाला तक का सफर, देखिये कैसे मौलवी बहु, बेटियों से मजे करते हैं !

महिला का निकाह ग्वालदा गांव के निवासी एक व्यक्ति से 8 साल पहले हुआ था। इस दौरान उनके चार बच्चे हुए। महिला ने बताया कि पिछले महीने उसका पति एक दिन जब घर आया तो उसने बच्चों से बीड़ी का बंडल मांगा। इस पर बच्चों ने कहा कि ममी को पता होगा। घर में बीड़ी नहीं होने के चलते गुस्साए पति ने पत्नी को तीन बार तलाक कहकर घर से निकाल दिया।

यह भी पढ़े : भक्त्न लोगों राष्ट्रवाद की आड़ में इस्लामिक करण की इ सब होशियारी न चोलबे

महिला अपने दो महीने के बच्चे के साथ ढकलपुर अपने मायके में रहने को मजबूर है। इसके बाद महिला ने महिला थाना पुलिस की प्रोटेक्शन ऑफिसर सुमन चौधरी को प्रार्थना पत्र देकर कहा कि वह अपने चार बच्चों के साथ पति के घर में रहना चाहती है। इस पर प्रोटेक्शन अफसर सुमन चौधरी ने मामले को मैजिस्ट्रेट को रेफर कर दिया है और महिला को लीगल एड के माध्यम से इंसाफ दिलाने की सिफारिश भी की है।

यह भी पढ़े : मोहम्मद शमी ने एकबार फिर साबित किर दिया कि वे मुस्लिम कट्टरपंथियों से नहीं डरते

महिला के भाई का कहना है कि मेवात में अब तीन तलाक का खुल कर दुरुपयोग हो रहा है, जिसे रोका जाना चाहिए। मलाई गांव के निवासी हाजी जकरिया का कहना है कि बहन-बेटियों की इज्जत को बनाए रखने के लिए तलाक कानून के दुरुपयोग को रोका जाना चाहिए। उनका कहना है कि तलाक की वजहें भी स्पष्ट होनी चाहिए।

आगे पढ़िये पलवल की दूसरी घटना : फोन पर दिए तलाक पर आलिमों की मुहर

Prev1 of 2Next
Click on Next Button

Post को Share जरूर करे !