अच्छे दिन:- क्‍या आपने कभी सोचा था कि 95 पैसे में 10 लाख रुपए का बीमा होगा!

Click on Next Button

95-paise-me-10m

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी की सरकार में अब रेलवे मुसाफिरों को रेल सफर के दौरान होने वाले किसी भी हादसे के लिए यात्रा बीमा देना शुरू कर दिया है।

कौन कहता है मोदी सरकार में अच्‍छे दिन नहीं आए हैं। क्‍या आपने कभी सोचा था कि 95 पैसे में 10 लाख रुपए का बीमा होगा। शायद नहीं। लेकिन, ये सच है मोदी सरकार में एक रुपए से भी कम कीमत पर दस लाख रुपए का बीमा हो रहा है। मोदी सरकार में अब रेलवे मुसाफिरों को रेल सफर के दौरान होने वाले किसी भी हादसे के लिए यात्रा बीमा देना शुरू कर दिया है। 10 लाख रुपए के इस बीमा के लिए मुसाफिरों को सिर्फ 95 पैसे ही देने होंगे।

 

IRCTC की ऑनलाइन टिकटिंग में ये ट्रैवल इंश्योरेंस सभी ऑनलाइन टिकट बुकिंग में विकल्प के तौर शुरू कर दिया गया है। इस योजना की शुरुआत रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने 1 सितंबर को रेल भवन से की थी। इस बीमा योजना में अगर सफर के दौरान कोई ट्रेन हादसा होता है और उसमें यात्री की मौत हो जाती है तो उसके परिजनों को दस लाख रुपए मिलेंगे। अगर कोई यात्री इस हादसे में पूरी तरह अपंग हो जाता है तो उसे साढ़े सात लाख रुपए की बीमा की रकम दी जाएगी।

 

हादसे में घायल होने वाले रेल मुसाफिरों को अस्पताल में इलाज के लिए 2 लाख रुपये तक की रकम मिलेगी। इतना ही नहीं अगर दुर्घटना में किसी की मौत हुई तो उसके शव को ले जाने के लिए भी दस हजार रुपए बीमा की राशि मिलेगी। हालांकि ये सुविधा सिर्फ ऑनलाइन टिकट बुकिंग पर ही लागू है। इसमें भी ऑप्‍शन दिया गया है कि अगर मुसाफिर चाहें तो बीमा लें अन्‍यथा इसे छोड़ दें। टिकट बुक होने के बाद रेल यात्री के बाद ई मेल के जरिए बीमे का फार्म भेजा जाएगा।

 

इस ट्रैवल इंश्योरेंश में आतंकवादी घटना, ट्रेन में दंगा फसाद, ट्रेन में डकैती, ट्रेन में चढ़ने या उतरने के दौरान होने वाले हादसे और ट्रेन एक्सीडेंट के तहत होने वाले नुकसान की भरपाई की जाएगी। IRCTC ने बीमा के लिए तीन कंपनियों को इसकी जिम्‍मेदारी सौंपी है। जिसमें रॉयल सुंदरम, ICICI लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस और श्रीराम जनरल इंश्योरेंश हैं। ऑटोमेटिड सिस्‍टम के जरिए ये तीनों कंपनियां बारी-बारी रेल यात्रियों को बीमा देती रहेंगी।

Click on Next Button

To Share it All 🇺🇸🇮🇹🇩🇪NRI Citizens

Leave a Reply

Your email address will not be published.